आरबीआई रिपोर्ट: नोटबंदी में मोदी हुये फेल

दिलीप खान

आरबीआई की रिपोर्ट के बाद अब सरकार में अगर ज़रा भी (ज़रा मतलब रत्ती भर भी) नैतिकता है तो कबूल करे कि नोटबंदी सबसे वाहियात फैसला था. लोगों को बेरोज़गार करने, सैंकड़ों लोगों की जान लेने और हज़ारों उद्योग धंधों को नष्ट करने के अलावा इससे कुछ भी हासिल नहीं हुआ. अलबत्ता सरकार के सारे दावों के उलट रिजल्ट रहा.

1. 16 लाख करोड़ रुपए में से 99% पैसे वापस बैंक में आ गए. अनुमान के मुताबिक़ नकद कालेधन की साइज़ 6% थी. यानी 5% कालेधन को नोटबंदी ने सफ़ेद बना दिया. यानी 80 हजार करोड़ रुपए कालेधन को सफेद किया गया.

2. 16 लाख करोड़ रुपए का विमुद्रीकरण किया और नए नोट छापने और बाक़ी तैयारियों में 21,000 करोड़ रुपए ख़र्च कर दिए. वापस नहीं आए सिर्फ़ 16,000 करोड़ रुपए. इसमें भी सीधे 5000 करोड़ रुपए का नुकसान.

3. नोटबंदी के दौरान बड़े उद्योग धंधों पर जिस तरह चोट पड़ी उससे 2 लाख करोड़ रुपए का अलग नुकसान हुआ. ये जानकारों का मानना है.

4. नोटबंदी के महीने भर के भीतर ही जिस तरह सरकार “कालाधन, आतंकवाद और जाली नोट” से छिटककर “कैशलेस इकोनॉमी” की बात करने लगी थी, उसी वक़्त माफ़ी मांग लेनी चाहिए थी.

5. नोटबंदी के बाद मात्र 11 करोड़ रुपए से कुछ ज़्यादा रकम के जाली नोट पकड़ाए. इससे पहले मेरी याददाश्त के मुताबिक ये आंकड़ा 47 करोड़ रुपए था.

6. नोटबंदी के चार दिन बाद ही पंजाब के तरनतारन से लेकर कर्नाटक के गुलबर्गा तक में 2000 रुपए के जाली नोट पकड़ाए थे, यानी नए नोट से जाली नोट बंद नहीं हुआ. समानांतर रूप से आज भी चल रहा है.

7. आतंकवाद की तो बात ही न करें सरकार. मिलिटेंसी को आतंकवाद के पर्याय के तौर पर सरकार देखती है। सरकार चाहे तो गिन लें कि इस साल जितने हमले हुए हैं वो बीते कई वर्षों में सबसे ज़्यादा है. मिलिटेंट, टेररिस्ट अटैक्स को मिलाकर.

8. अपने क़रीबियों को पहले ही नोट सप्लाई कर सरकार ने साबित किया कि नोट निकालने की सीमा उनपर लागू नहीं हो रही थी. याद कीजिए रेड्डी के घर की शादी. सैंकड़ों करोड़ रुपए फूंके गए थे, ठीक नोटबंदी के बीच में.

यह पोस्ट दिलीप खान के फेसबुक वाल से साभार

 

1 COMMENT

  1. This blog is definitely rather handy since I’m at the moment creating an internet floral website – although I am only starting out therefore it’s really fairly small, nothing like this site. Can link to a few of the posts here as they are quite. Thanks much. Zoey Olsen

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here