जब न्यूज एंकर ने योगी आदित्यनाथ को जमकर लताड़ा..

न्यूज कैप्चर्ड डेस्क

अपने संवेदनहीन बयान के चलते उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कड़ी आलोचना झेल रहे हैं.  अब वे एबीपी न्यूज़ के एंकर अभिसार शर्मा के निशाने पर आये हैं. अभिसार ने फेसबुक पर तेजी से वायरल हो रहे एक वीडियो में उन्हें जमकर लताड़ लगायी है और कहा है कि ये देश का दुर्भागय ही है कि सरकार पिछले 70 सालों से योगी आदित्यनाथ जैसे सियासतददानों को पाल  रही है और बर्दाश्त कर रही है.

Hum live hain Live LIVE LIVE… बीजेपी में कुर्सी की अकड़ और घमंड… साथही नोटबंदी से देश को मिला बाबाजी का.. मेरा वीडियो ब्लोग….. JUDIYEGA AUr JAANKAARI SHARE KIJIYE

Publié par Abhisar Sharma sur mercredi 30 août 2017

दरअसल अभिसार ने योगी आदित्यनाथ के उस बयान को आड़े हाथों लिया जिसमें  जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘मुझे लगता है कहीं ऐसा न हो कि लोग अपने बच्चे 2 साल के होते ही सरकार के भरोसे छोड़ दें, सरकार उनका पालन पोषण करे.’ अभिसार ने इस वीडियो में योगी आदित्यनाथ के बयान पर टिप्पणी करते हुये कहा है

आपकी संवेदनाओं का पता चलता है. बच्चों के प्रति आपकी भावनाओं का पता चलता है. वह 290 लोग जिनके बच्चे मारे गए हैं न , उन्हें भी पता है के उनके बच्चे वापस नहीं आएंगे. ये चमत्कार नहीं होगा. मगर इन ग़मग़ीन लम्हों में, उन्हें सहानुभूति , मरहम की ज़रुरत है. कोई तो हो , जो उनके कंधे पर हाथ रखे और कहे , सब ठीक हो जाएगा. और आप क्या कहते हैं योगीजी? के कहीं दो साल बाद माता पिता अपने बच्चों को सरकार के हवाले न कर दें?

अभिसार ने इस वीडियो में आगे यह भी जोड़ा

हम सब जानते हैं के किसी भी त्रासदी की कुछ ज़मीनी हकीकत होती है. कुछ पहलु सरकार के काबू में भी नहीं होते. मगर उसे प्रस्तुत करने का एक तरीका होता है. बीजेपी वो शालीनता भूल गयी है जो ऐसे मौकों पर होनी चाहिए. और योगीजी ऐसी शालीनता का परिचय देने मे पूरी तरह नाकाम रहे हैं . क्योंकि अब तक, अब तक गोरखपुर की सियासी ज़िम्मेदारी तय नहीं की गयी है. अब तक नहीं. है न हैरत वाली बात ?

गौर करने वाली बात है कि गोरखपुर के बी आर मेडिकल कॉलेज में हुयी मौतों पर उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने भी लगभग इसी अंदाज में जवाब देते हुये कहा था कि अगस्त महीने में बच्चे मरते ही हैं.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here