हार्वे तूफान भी नहीं उखाड़ पाया इस पेड़ की जड़ें

न्यूज कैप्चर्ड डेस्क

अमेरिका में आये शक्तिशाली तूफ़ान हार्वे ने टेक्सास और उसके आस पास के इलाकों को काफी क्षति पहुंचायी है. आश्चर्य की बात है कि घरों, सड़कों और यहां तक कि 46 लोगों की जान लेने वाला यह तूफ़ान लगभग 1100 साल पुराने ओक या बलूत के एक पेड़ की जड़ें नहीं उखाड़ सका. गूस आइसलेंड स्टेट पार्क में स्थित ये पेड़ अब भी सुरक्षित खड़ा है.

इस पेड़ की चौड़ाई लगभग 11 फीट है और यह 35 फीट के घेरे में फैला हुआ है. विशेषज्ञों ने ध्यान दिलाया है कि इस पेड़ के अलावा भी बहुत से ओक के पेड़ तूफ़ान से सुरक्षित रहे हैं. उनका मानना है कि नम और बारिश वाला मौसम इस पेड़ों की वृद्धि के लिये काफी उपयुक्त होता है. अधिक बारिश होने से इन पेड़ों की जड़ों में मजबूती आ गयी है.

वैसे ओक के पेड़ जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को झेलने के लिये जाने जाते हैं. हालांकि आज मौसम में होने वाले तेज परिवर्तनों से इन पेड़ों का अस्तित्व भी कुछ कुछ खतरे में पड़ने लगा है. अमेरिका में अधिकांश जगहों पर वार्षिक न्यूनतम तापमान बढ़ने लगा है, जिसके इन पेड़ों को नुकसान पहुंचाने वाले बहुत से कीटाणु पनप रहे हैं.

लगभग 2.4 मिलियन सालों पहले ‘आइस एज’ के दौरान ग्लेशियरों के चलते ये पेड़ फ्लोरिडा में सिमटकर रह गये थे. वैज्ञानिकों का अनुमान है कि आज से करीब 15,000  वर्ष पहले तापमान बढ़ने के बाद ये फ्लोरिडा के उत्तरी दिशा में फैलने शुरू हुये. अपनी जीन की खास बनावट के चलते ये अपना विस्तार काफी तेजी से करते हैं. इस समय कनाडा, अमेरिका और मेक्सिको में मिलाकर ओक की कुल 225 किस्म की प्रजातियां हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here