क्या जयअमित शाह मामले के पीछे अरुण जेटली का हाथ है?

न्यूज कैप्चर्ड डेस्क 

भारतीय जनता पार्टी में मोदी शाह ‘राज’ के अंर्तविरोध धीरे धीरे दिखायी देने लगे हैं. कल ही ‘दि वायर’ वेबसाइट ने यह सनसनीखेज रिपोर्ट प्रकाशित की थी कि कैसे अमित शाह के बेटे जय अमित भाई शाह की कंपनी टेंपल इंटरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड का मुनाफा अमित शाह के पार्टी मुखिया और नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद सोलह हजार गुना बढ़कर 80.5 करोड़ रुपये हो गया.

इस रिपोर्ट को ‘इकोनामिक्स टाइम्स’ की पूर्व पत्रकार और फिलहाल वेबसाइट में काम करने वाली पत्रकार रोहिणी सिंह ने लिखा है, लेकिन गुपचुप तरीके से अब इस बात की चर्चा तेज है कि वित्त मंत्री अरुण जेटली का दिमाग भी इस खबर को प्लांट कराने के पीछे हो सकता है.

दरअसल, पिछले कुछ दिनों से यह बात ख़बरों में है कि देश की अर्थव्यवस्था की पतली हालत के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह अरुण जेटली से वित्त मंत्रालय छीनने की योजना बना रहे हैं. नेशनल हेराल्ड ने तो परसों अपने वेब संस्करण में यह तक कहा है कि अरुण जेटली से वित्त मंत्रालय छीनकर उन्हें गृह मंत्रालय की कमान सौंपी जायेगी और राजनाथ सिंह को देश का उपप्रधानमंत्री बनाया जायेगा.

माना जा रहा है कि अमित शाह के बेटे जय अमित शाह की कंपनी में हुयी हैरतंगेज बढ़ोत्तरी की खबर के बहाने जेटली ने मोदी शाह को यह सन्देश देने की कोशिश की है कि अगर उन पर अर्थव्यवस्था की खराब हालत का ठीकरा फोड़ा गया तो अभी सरकार के लिये इससे भी ज्यादा बड़ी मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं.

वैसे यह बात ध्यान देने योग्य है कि अरुण जेटली ही नरेंद्र मोदी के दौर में उभरी भाजपा और सरकार की मशीनरी के कर्ता धर्ता रहे हैं. संसद से लेकर अपने बहुप्रचारित जीसीटी कदम के लिये सरकार ने अपने बचाव में हमेशा अरुण जेटली को ही सामने किया है. यह देखने वाली बात है कि दि वायर में छपी रिपोर्ट पर सफाई देने के लिये भी सरकार ने पीयूष गोयल को आगे किया. माना जा रहा है कि जो तथ्य रिपोर्ट में पेश किये गये हैं उनमें सबसे पहला सवाल पीयूष गोयल पर ही खड़ा होता है क्योंकि उन्हीं के ऊर्जा मंत्री रहने के दौरान जय की कंपनी को न्यूनतम शर्ते पूरा किया बगैर कर्ज मुहैया कराया गया.

कहने की आवश्यकता नहीं कि भाजपा में नरेंद्र मोदी और अमित शाह के राज के अंर्तविरोध सामने आने लगे हैं. ये सिलसिला तेज हुआ तो शायद नरेंद्र मोदी खुद ही अपना शिकार कर लेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here