ज़िम्बाब्वे: 93 वर्षीय राष्ट्रपति मुगाबे ‘नज़रबंद’

न्यूज़ कैप्चर्ड डेस्क

दक्षिण अफ़्रीका के राष्ट्रपति जैकब ज़ुमा ने कहा है कि ज़िम्बाब्वे की सेना ने राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे को राजधानी हरारे में नज़रबंद किया गया है । सैनिकों ने ज़िम्बॉब्वे के नेशनल ब्रॉडकास्टर के मुख्यालय पर कब्ज़ा कर लिया है । राजधानी हरारे में तनाव के माहौल के बीच धमाके और गोलीबारी की आवाज़ें सुनी गई हैं। दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति जैकब ज़ुमा ने कहा है कि राष्ट्रपति मुगाबे सुरक्षित हैं । उन्हें मुगाबे ने फ़ोन पर ये जानकारी दी । वहीँ टीवी पर सेना के एक जनरल ने आकर जोर देते हुए कहा कि ज़िम्बॉब्वे में कोई सैनिक तख़्तापलट नहीं हुआ है और राष्ट्रपति मुगाबे और उनका परिवार सुरक्षित है। हरारे से मिल रही रिपोर्टों के मुताबिक़ संसद और सत्तारूढ़ ज़नू-पीएफ़ पार्टी के मुख्यालय की ओर जाने वाले रास्ते को बंद कर दिया है । इससे पहले राजधानी हरारे में राष्ट्रपति मुगाबे के निजी आवास के पास भी गोलियां सुनी गई हैं । सेना की तरफ़ से मुगाबे और उनके परिवार को सुरक्षा की गारंटी दी गई है। सेना ने तख़्तापलट की बात से इनक़ार करते हुए कहा है कि राष्ट्रपति के इर्द-गिर्द मौजूद अपराधियों पर कार्रवाई की जा रही है ।

सरकारी टीवी पर कब्ज़े के बाद सेना राजधानी हरारे में गश्त लगा रही है. सेना का कहना है कि वो ‘अपराधियों’ को निशाना बना रही है । दरअसल, राष्ट्रपति मुगाबे ने बीते हफ्ते उप राष्ट्रपति एमर्सन नानगांग्वा को उनके पद से हटा दिया था। मुगाबे ने अपनी पत्नी ग्रेस मुगाबे को उप राष्ट्रपति बनाने के लिए ऐसा किया। सैन्य कार्रवाई का मक़सद शायद राष्ट्रपति मुगाबे को हटाकर उनके डिप्टी इमरसन मनंगावा को सत्ता पर बिठाना है । मनंगावा को राष्ट्रपति मुगाबे ने पिछले हफ्ते बर्ख़ास्त कर दिया था और उसके बाद बदले सियासी माहौल में मुगाबे की पत्नी ग्रेस ही उनकी संभावित उत्तराधिकारी रह गई थीं । 52 साल की ग्रेस साउथ अफ्रीकी मूल की महिला हैं। जब वह प्रेजिडेंट ऑफिस में सेक्रटरी थीं, तभी उनका राष्ट्रपति मुगाबे से अफेयर शुरू हुआ। ग्रेस ने पति से तलाक लेकर मुगाबे से शादी की और मुगाबे से उन्हें दो बच्चे हुए। मुगाबे की पहली पत्नी का बीमारी से निधन हो गया था। ग्रेस खर्चीली महिला के तौर पर जानी जाती रही हैं। यहां तक की उन्हें गूची ग्रेस भी कहा जाने लगा मगर हाल के सालों में उनका राजनीतिक रुतबा और दखल बढ़ा है। रॉबर्ट मुगाबे की पत्नी ग्रेस मुगाबे के समर्थकों की संख्या सीमित है क्योकि उनपर अकसर ऐशो-आराम की जिंदगी जीने के आरोप लगते रहे हैं जबकि देश गरीबी और भुखमरी से जूझ रहा है।

ज़िम्बाब्वे की साल 1980 में ब्रिटेन से आज़ादी मिली थी और उसके बाद से ही रॉबर्ट मुगाबे आर्थिक समस्याओं का सामना कर रहे देश के राष्ट्रपति हैं । चीन ज़िम्बाब्वे का सबसे बड़ा कारोबार सहयोगी है । चीन का कहना है कि वो ज़िम्बाब्वे के हालात पर नज़र रख रहा है और उम्मीद करता है कि संबंधित पक्ष देश की आंतरिक स्थितियों को सही तरीके से संभाल लेंगे । इससे पहले ज़िम्बाब्वे में सत्तारूढ़ पार्टी ज़नू पीएफ़ ने ट्विटर पर दावा किया है कि एक रक्तहीन कार्रवाई के बाद सेना ने सत्ता का नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया है और राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे को हिरासत में ले लिया गया है । सरकारी टेलीविज़न ज़ेडबीएमसी पर कब्ज़े के बाद सेना के एक प्रवक्ता ने घोषणा की कि सेना मुगाबे के उन करीबी लोगों के खिलाफ़ कार्रवाई कर रही है जो ‘सामाजिक और आर्थिक’ समस्याओं के लिए ज़िम्मेदार हैं । सैनिक यूनिफ़ॉर्म में एक जनरल ने टेलीविज़न पर पढ़े गए एक बयान में इस बात से इनकार किया है कि ये तख़्तापलट की कार्रवाई है ।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here