राम मंदिर मुद्दे को लेकर श्री श्री रविशंकर पहुंचे अयोध्या, कहा- मैं सबको मनाने आया हूं !

shri-shri-ravishankar-meets-hindu-and-muslim-party
shri-shri-ravishankar-meets-hindu-and-muslim-party

राम मंदिर मुद्दे को कोर्ट के बाहर सुलझाने के लिए श्री श्री रविशंकर गुरुवार को लखनऊ से अयोध्या पहुंचे। उनकी इस पहल को लेकर सवाल खड़े किए जा रहे हैं। इस पर उन्होंने कहा- “आरोप-प्रत्यारोप से बात नहीं बनेगी। बैठकर बात करनी पड़ेगी।

उन्होंने कहा की, मेरे पास कोई फॉर्मूला नहीं है। बात करने से ही फॉर्मूला निकलेगा। मैं सब को मनाने आया हूं। श्री श्री रविशंकर ने सबसे पहले नृत्य गोपाल दास से मुलाकात की है। इसके बाद उन्होंने रामलला के दर्शन किए। सीएम आदित्यनाथ ने कहा- श्री श्री रविशंकर को लखनऊ आना था, इसलिए मेरे पास उनका आना हुआ। 5 दिसंबर से सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा है। बातचीत से समाधान होना था तो बहुत पहले हो चुका होता। फिर भी संभावना है तो कोई बुराई नहीं। सरकार इसमें कोई पक्ष नहीं है। सरकार अपनी तरफ से फिलहाल कोई पहल नहीं करेगी, जबकि केस सुप्रीम कोर्ट में है।

sri-sri
श्री श्री रविशंकर

अयोध्या विवाद में 3 पक्ष हैं- निर्मोही अखाड़ा, रामलला विराजमान, सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड। रामलला विराजमान का दावा है कि वह रामलला के करीबी मित्र हैं। चूंकि भगवान राम अभी बाल रूप में हैं, इसलिए उनकी सेवा करने के लिए वह स्थान रामलला विराजमान पक्ष को दिया जाए, जहां रामलला विराजमान हैं। सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड का दावा है कि वहां बाबरी मस्जिद थी। मुस्लिम वहां नमाज पढ़ते रहे हैं। इसलिए वह स्थान मस्जिद होने के नाते उनको सौंप दिया जाए। 30 सितंबर, 2010 को इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने विवादित 2.77 एकड़ की जमीन को मामले से जुड़े 3 पक्षों में बराबर-बराबर बांटने का आदेश दिया था। बाद में यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा। अगली सुनवाई 5 दिसंबर को होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here