ईरान में चाबहार पोर्ट के 1st फेज का हुआ इनॉगरेशन, भारत को होगा बड़ा फायदा !

chabahar port first phase inauguration
chabahar port first phase inauguration

ईरान में चाबहार पोर्ट के पहले फेज का प्रेसिडेंट हसन रूहानी ने रविवार को इनॉगरेशन किया। इस माैके पर भारत, अफगानिस्तान और इलाके के कई दूसरे देशों के रिप्रेजेंटेटिव्स मौजूद रहे। अफगानिस्तान की तोलो न्यूज ने यह जानकारी दी है।

भारत को होगा बड़ा फायदा-

chabahar port first phase inauguration
chabahar port first phase inauguration

ईरान के दक्षिण पूर्व सिस्तान बलूचिस्तान प्रॉविंस में मौजूद इस पोर्ट से भारत, ईरान और अफगानिस्तान के बीच एक नया स्ट्रैटेजिक रूट खुलेगा। इस पोर्ट का शुरू होना भारत के लिए स्ट्रैटेजिक और ट्रेड समेत कई मायनों में फायदेमंद है। इस पोर्ट के जरिए भारत अब बिना पाकिस्तान गए ही अफगानिस्तान और उससे आगे रूस, यूरोप से जुड़ सकेगा। अभी तक भारत को पाकिस्तान होकर अफगानिस्तान जाना पड़ता था। इस पोर्ट के जरिए भारत, अफगानिस्तान और ईरान के बीच कारोबार में बढ़ोत्तरी होने की उम्मीद है। चाबहार प्रोजेक्ट के पहले फेज को शाहिद बेहेश्टी पोर्ट के तौर पर जाना जाता है।

chabahar port first phase inauguration
chabahar port first phase inauguration

ईरानी विदेश मंत्रालय के मुताबिक, जरीफ ने शाहिद बेहेश्टी पोर्ट का जिक्र किया और कहा कि यह ईरान-भारत के आपसी और क्षेत्रीय साझेदारी को मजबूती देगा। जरीफ ने यह भी कहा कि यह क्षेत्र के विकास में पोर्ट और सड़कों की अहमियत को दिखाता है, जो मध्य एशियाई देशों को दुनिया के दूसरे देशों से ओमान सागर और हिंद महासागर के जरिए जोड़ता है। ईरान के चाबहार पोर्ट से भारत तक 7200 किलोमीटर लंबा इंटरनेशनल नॉर्थ साउथ कॉरिडोर (INSTC) बनाया जा रहा है। भारत ने हाल ही में इसका काम तेज किया है। माना जा रहा है कि चीन की वन बेल्ट वन रोड (OBOR) पॉलिसी की चलते इस काम में तेजी लाई गई है। इससे भारत की सेंट्रल एशियाई देशों (कजाकिस्तान, किर्गीजस्तान, तुर्कमेनिस्तान, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान), रूस और यूरोप तक पहुंच हो जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here