हम ऐसे कर रहे हैं रक्षाबंधन का बंटाधार

विनीत कुमार 

रक्षाबंधन गहरे जाकर भावनात्मक स्तर पर जुड़ाव का त्यौहार है. अपनी बहन के अलावा कई बार जिंदगी जीते हुए किसी के प्रति आपकी फीलिंग्स ऐसी पनपती है कि आप उसे बहन मान लेते हैं और कई बार कोई इसी तरह किसी को भाई. छुटपन में हम सबकी मां चाहती कि आसपास की लडकियां बहन हो जाएं, उनसे राखी बंधवाती ऐसा लेकिन होश संभालने पर लगता कि ये बहन नहीं हो सकती तो हम राखी बंधवाना छोड़ देते.

कई लोग अपनी ही बहन से भी राखी नहीं बंधवाते. उन्हें लगता है जिस फीलिंग्स के साथ ये त्यौहार मनाया जाता है, वो भाव बहन के प्रति नहीं है. कई बहनें अपने भाई को लेकर इस हद तक टूट चुकी होती हैं कि वो आज का दिन बस गुजर जाने देती हैं.

ऐसे में भाई-बहन और राखी का धागा जितना सपाट दिखता है, उतना होता नहीं. नाजुकता ही इसका बंधन है और एक-दूसरे को समझ पाना ही इस त्यौहार का मर्म.

अब इसमे कोई चाहे कि इस त्यौहार को सुरक्षा कवच की तरह इस्तेमाल करे, जहां जोर-जबरदस्ती हो, कोई लंपटई करे, लफंगई करे और दवाब बनाकर उसे राखी बंधवा दिया जाए, इसमे किसका बचाव किया गया ? और फिर लंपट नागरिक समाज को बर्दाश्त नहीं तो भाई के खाते में लंपटता क्यों ? ये किसी त्यौहार के भीतर की तरलता को, उसके मनाए जाने के पीछे के तर्क को खत्म करना है. यदि ऐसा करके हृदय परिवर्तन ही करना है तो फिर उसे समझाकर, गलती का एहसास कराकर या फिर सजा देकर क्यों नहीं ? और वैसे भी हम जिस समाज में जीते हैं वहां भाई की शक्ल में जिसे कुकर्म करना होता है, करता ही है.

इधर एफएम रेडियो और काफी हद तक सोशल मीडिया पर देखें तो ये इस त्यौहार की मासूमियत और भाई-बहन के सहज संबंधों पर उपहास, धमकियां और बहन या भाई बना लेने का डर ज्यादा है. आपकी पर्सनालिटी कमतर है तो कोई आपको भाई बना लेगी या बहन बना लेगा. हम इस मनोदशा के भीतर एक बेहद खूबसूरत त्यौहार का बंटाधार कर रहे होते हैं.

और राज्य की सरकारों का क्या कहा जाए ? वो इस देश के लोगों को चाहे सबकुछ बनने पर मजबूर कर दे, सजग, सहज नागरिक बने रहना नहीं देना है. आखिर किसने समझ दी है कि समाज में एक स्त्री अपनी नागरिक पहचान के साथ सुरक्षित नहीं है, विपदा आने पर कोई नागरिक की हैसियत से मदद नहीं कर सकता, उसे हर हाल में भाई बनना ही होगा. ऐसा करके नागरिकों के प्रति उसकी जो जवाबदेही है, कम करके की जुगत भिड़ा रही होती है.

यह टिप्पणी विनीत कुमार के फेसबुक वाल से साभार ली गयी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here