Home Tags ॉ. श्रीश

Tag: डॉ. श्रीश

ईश्वर यदि केवल एक उपयोगी संकल्पना भी है तो वरेण्य तो...

एक सामान्य धारणा है कि संगठित आस्था के नाम पर दुनिया में सबसे अधिक लड़ाईयां हुईं. मध्य काल में हुए क्रूसेड से लेकर वर्तमान...

अपने घर में : देवी नागरानी की पुस्तक की समीक्षा

डॉ. श्रीश  भाषा सेतु है विभिन्न व्यक्तियों के मध्य और अनुवाद सेतु है विभिन्न भाषाओं के व्यक्तियों के मध्य। अनुवाद एक लोकतान्त्रिक विधा है, जिससे...

राजनीति एक शास्त्र भी है…!

डॉ. श्रीश | “……s s ….! मिल नहीं पायी इन्क्रीमेंट, बहुत पॉलिटिक्स है..!” “सिलेंडर नहीं मिल पाया आज भी, बड़ी राजनीति है, भाई !” “पॉलिटिक्स पढ़ते हो, इसमें तुम्हारी ही कोई राजनीति होगी…..!” ये...

‘इनरलाइन पास’ – यात्रा जो बाहर की दुनिया के साथ-साथ मन...

पुस्तक समीक्षा उमेश पंत का यात्रा-वृतांत ‘इनरलाइन पास’ एक ऐसी यात्रा की कहानी है जो बाहर की दुनिया के साथ-साथ मन के भीतर भी...

MOST POPULAR

HOT NEWS